Web Story Copyright Contet पालिसी क्या है? | WebStories Guideline in hindi Text limit, Image and Video

Editor
0

Google पर 'वेब स्टोरी' के कॉपीराइट कॉन्टेंट से जुड़ी Guideline - वेब स्टोरी बनांते समय किन बातों को ध्यान में रखना चाहिए, मतलब इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको स्टोरी से सम्बंधित महतवपूर्ण जाकारी मिलेगी।


Google आपकी वेब स्टोरी दिखाने का दावा नहीं करता. यानी, आपकी वेब स्टोरी दिखेगी या नहीं, इसे लेकर Google की न तो कोई जवाबदेही बनती है और न ही कोई ज़िम्मेदारी.


वेब स्टोरी कंटेंट पालिसी क्या है?


यह गूगल द्वारा बताया गया एक वेब स्टोरी गाइडलाइन है. जिसमे कॉपीराइट कंटेंट, टेक्स्ट लिमिट, लौ क्वालिटी इमेज या वीडियो, इन्कम्प्लीट स्टोरी, दूसरे ब्लॉग लिंक एफिलिएट या विज्ञापन शामिल है.


तो आइए जानते हैं। वेब स्टोरी गाइडलाइन के बारे में विस्तार से


'Google डिस्कवर' और Search पर एक नतीजे के तौर पर दिखने के लिए, यह ज़रूरी है कि आपकी वेब स्टोरी 'Google डिस्कवर' की नीतियों और Google की वेबमास्टर गाइडलाइन के हिसाब से बनी हों.


इसके लिए ज़रूरी है कि 'वेब स्टोरी' को कॉन्टेंट की इन नीतियों के हिसाब से बनाया जाए. वेब स्टोरी के कॉन्टेंट की नीतियों का उल्लंघन होने की स्थिति में, हो सकता है कि आपकी साइट Google पर कभी न दिखाई जाए.


कॉपीराइट कॉन्टेंट - Copyright Content


गूगल कॉपीराइट का उल्लंघन करने वाली वेब स्टोरी को नहीं दिखता हैं. वेब स्टोरी का इस्तेमाल ओरिजनल कॉन्टेंट दिखाने के लिए किया जाता है.


किसी दूसरे के कॉपीराइट वाला इमेज या वीडियो का इस्तेमाल तब तक नहीं करते हैं, जब तक आपको उस कॉन्टेंट को इस्तेमाल करने की अनुमति न हो.


अगर आपकी वेब स्टोरी किसी दूसरे के कॉपीराइट का उल्लंघन करती है, तो हम इसे दिखने से रोक सकते हैं.


बहुत ज़्यादा टेक्स्ट वाली वेब स्टोरी


गूगल उन वेब स्टोरी को अनुमति नहीं देता है, जिनमें इमेज से ज़्यादा टेक्स्ट हो. अगर ज़्यादातर पेजों में 180 से ज़्यादा शब्दों का टेक्स्ट हो, तो हो सकता है कि वेब स्टोरी को अनुमति न मिले.


जहां तक हो सके वीडियो हर पेज पर 60 सेकंड से कम का इस्तेमाल किया जाना चाहिए.


हल्की क्वालिटी की इमेज या वीडियो


कुछ वेब स्टोरी में ऐसी इमेज और वीडियो एसेट होती हैं जिन्हें ज़्यादा खींचा गया होता है या इतना पिक्सलेट किया गया होता है कि देखने वाले को अच्छा अनुभव नहीं मिलता. गूगल ऐसी वेब स्टोरी को नहीं दिखाता हैं.


पूरी जानकारी न होना


गूगल ऐसी वेब स्टोरी को अनुमति नहीं देते हैं जिनमें दिलचस्पी बनाए रखने वाली थीम या एक पेज से दूसरे पेज को जोड़े रखने वाली रचना न हो.


यानि जैसे हम बुक पढ़ते हैं ठीक उसी प्रकार की रचना होनी चाहिए। वेब स्टोरी के पहले पेज का सब्जेक्ट की जानकारी अगले पेज पर रखना है. ऐसा नहीं की हर पेज का सब्जेक्ट अलग हो.


अधूरी वेब स्टोरी


गूगल ऐसी वेब स्टोरी को अनुमति नहीं देते हैं जो अधूरी हों या जिनमें ज़रूरी जानकारी पढ़ने के लिए उपयोगकर्ताओं को दूसरी वेबसाइटों या ऐप्लिकेशन पर जाना पड़ता हो.


वेब स्टोरी, जिनमें बहुत ज़्यादा विज्ञापन हों


गूगल उन वेब स्टोरी को अनुमति नहीं देते हैं जिनका लक्ष्य सिर्फ़ किसी प्रॉडक्ट का प्रचार करना होता है और खास तौर पर तब, जब आपको वेब स्टोरी देखने वाले उपयोगकर्ताओं से सीधा फ़ायदा हो रहा हो.


स्टोरी विज्ञापन से जुड़े दिशा-निर्देशों को फॉलो करते हुए, वेब स्टोरी में डिसप्ले विज्ञापन जोड़े जा सकते हैं.


अफ़िलिएट मार्केटिंग के लिंक की अनुमति तब तक दी जा सकती है, जब तक की वेब स्टोरी Google की वेबमास्टर गाइडलाइन के हिसाब से काम करते हैं.

Tags

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(31)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !